Trimbakeshwar Pandit, Nashik

Book Your Puja in Trimbakeshwar. 

Types of Kaal Sarp Dosh

Different Types of Kaal Sarp Dosh with their Symptoms/ लक्षण

Now that you have been provided all information about what Kaal Sarp Dosh, Now let’s explore its various types and the potential solutions for each.

Table of Contents

Ancient scholars have mentioned 12 main types of Kaal Sarp Dosh/yog. They are named as Anant, Kulik, Vasuki, Shankhpal, Padma, Mahapadma, Takshak, Karkotak, Shankhchud, Ghatak, Vishdhar and Sheshnag. The various results of these twelve types of Kaal Sarp Dosh can be determined only by studying the position of Rahu.

Thousands of forms of Kaal Sarp Dosh

Although there are only twelve main types mentioned in the scriptures, if we study all the results at the practical level, there can be thousands of types of Kaal Sarp Yoga’s occurring in different planetary positions (especially in different lagn kundali). For example the effect of Rahu in Gemini (Mithun) Lagna is different from Rahu in Leo zodiac (Singh Rashi) Lagna. If we think of it in this way, there can be 12 × 12 = 144 types of Kaal Sarp Yog.

Special Nuances

Any type of Kaal Sarp Yog is more troublesome if it starts from Rahu. If there is Kaal Sarp Yog with Panchamastha Rahu, it creates obstacles in getting a son. When all the planets in the birth chart are imprisoned between Rahu-Ketu, it is ‘Purna Kaal Sarp Yog’. If a planet is out of the custody of Rahu Ketu, ‘Partial Kaal Sarp Yog’ occurs. The inauspicious and painful results of partial Kalasarpa Yoga are reduced by half. (But it is not avoidable) Till date, after studying about twenty thousand birth charts with the help of computer, this matter has been realized.

The specific type of dosha is determined by the position of Rahu and Ketu in the birth chart.

Main 12 Types of Kaal Sarp Dosh

1. Anant Kaal Sarp Dosh

Anant Kaal Sarp Dosh

Symptoms of Anant Kaal Sarp Dosh

If a planet enters Rahu-Ketu (or Ketu-Rahu) from lagna to 7th house, it is ‘Anant Kaal Sarp Dosh’. A person with such a birth chart has to struggle hard to progress in life. This also affects the married life and life becomes difficult. Such a person is harmed only by his family members. Mental torture happens all the time. Sufferings keep coming one after the other. Even if such a person does many kinds of work, he cannot be fulfilled in it. Those works are not completed till the end and bear fruit. Such a person has no permanent interest in any work as well as It can bring difficulties in personal relationships, health issues, and problems related to partnerships or marriage.

2. Kulik Kaal Sarp Dosh

Kulik Kaal Sarp Dosh

Symptoms of Kulik Kaal Sarp Dosh

The planetary position when Rahu is in the second house and Ketu is in the eighth house in kundali creates the Kulik Kaal Sarp Dosh. Due to this yoga there is intense conflict in the life of this person over wealth. The cost is enormous. There are frequent failures and troubles. Money doesn’t last. There are ups and downs in body health. This yoga is more troublesome. A person’s temperament becomes irritable due to constant stress. There is no success in trying to get money. Even if a person is noble, he has to struggle for wealth and money. Inshort kulik kaal sarp dosh may cause financial challenges, speech-related issues, and problems with inheritance.

3. Vasuki Kaal Sarp Dosh

Vasuki Kaal Sarp Dosh

Symptoms of Vasuki Kaal Sarp Dosh

The planetary position from the 3rd house to the 9th house creates the Vasuki Kaal Sarp Dosh. It can lead to conflicts with family and siblings,Friends betray, communication problems, job problems and challenges in higher education.
Due to Vasuki Kaal Sarp Dosh you get money but you also get notoriety. One has to face mental stress due to close relatives. One has to struggle for success, position and prestige.

4. Shankhpal Kaal Sarp Dosh

Shankhpal Kaal Sarp Dosh

Symptoms of Shankhpal Kaal Sarp Dosh

Rahu trapped between Ketu and Rahu from 4th house to 10th house creates Shankhpal Kaal Sarp Dosh. This situation bring difficulties related to property, home, and career stability.
Shankhpal Kaal Sarp Dosh always obstacles in the beginning. Father causes problems. There are difficulties in studies. The one who has the most trust. The same person betrays. The head always suffers from some problem. No matter how much you try to recover, the conflict cannot be avoided.

5. Padma Kaal Sarp Dosh

Padma Kaal Sarp Dosh

Symptoms of Padma Kaal Sarp Dosh

The Kaal Sarp Dosh of the name Padma is formed due to the placement of the planets from the 5th house to the 11th house. The education of such a person is hindered. Getting a son is hindered. There is concern about getting a son. Famous film actor Dilip Kumar also has this yoga in his birth chart( Kundali). Such a person has many secret enemies. Family life is stressful. Not getting a reliable partner. Life is a constant struggle. All the work of such persons creates some controversy. Inshort Padma Kaal Sarp Dosh can impact creativity, relationships with children, and hinder the fulfillment of desires.

6. Mahapadma Kaal Sarp Dosh

Mahapadma Kaal Sarp Dosh

Symptoms of Mahapadma Kaal Sarp Dosh

Mahapadma Kaal Sarp Dosh is formed due to planetary position from 6th house to last (12th) house. As a result of this yog, the person always remainshealth issues, enemies, and hurdles in personal and professional life. Even after doing a lot of travel and pilgrimage, success does not come. This person’s own character is questionable. The person has low self-esteem and depressed mood.
Due to Mahapadma Kaal Sarp Dosh no matter how much medication is given, the disease cannot be cured. Secret enemies always cause trouble. Obstacles in work and constant struggle make life difficult.

7. Takshak Kaal Sarp Dosh

Takshak Kaal Sarp Dosh

Symptoms of Takshak Kaal Sarp Dosh

When Rahu is in the 7th house and Ketu is in the 1st house, Takshak Kaal Sarp Dosha is formed. It affect relationships, partnerships, and create problems in marriage. Spouse has to bear estrangement. Failure in love matters. There is a risk of betrayal in proven work. Mental concerns persist. Such a person should always be ready to compromise with his marital partner, so that he can get some peace of mind.

8. Karkotak Kaal Sarp Dosh

Karkotak Kaal Sarp Dosh

Symptoms of Karkotak Kaal Sarp Dosh

Planetary position from 8th sthana (house) to Dhansthana means in second house creates “Karkotak Kaal Sarp Dosh”. Due to Karkotak Kaal Sarp Dosh yog there is danger of short life and accidents as well as It can bring financial troubles, health problems, and challenges related to family and wealth. Physical health concerns arise. Frequent financial loss. Money lent sinks. There are many enemies. There is no control over speech. Hard work does not yield success. Failure occurs in family matters.

9. Shankhchud Kaal Sarp Dosh

Shankhchud Kaal Sarp Dosh/ Shankachood kaal Sarp Dosh

Symptoms of Shankhchud Kaal Sarp Dosh

Planetary position from 9th to 3rd house creates Shankhchud Kaal Sarp Dosh. This causes obstacles in progress, trouble in job, education, cause conflicts with father or authority figures, loss in business, betrayal by friends. Court work can result in fines or punishments. Fraudulent transactions are done by brother-in-law. Even doing many types of business does not achieve stability. Just like there is no water in a broken mountain, no matter how hard you try, you will not succeed.

10. Ghatak Kaal Sarp Dosh

Ghatak Kaal Sarp Dosh

Symptoms of Ghatak Kaal Sarp Dosh

Planetary position from 10th house to 4th house creates Ghatak Kaal Sarp Dosh. Due to this yoga, one has to face calamities like loss in business, misunderstanding and anger in partnership, conflict with government officials. There are quarrels in the family. Being in a constant state of anxiety causes family and professional life to suffer from sadness and mental stress.
Inshort Ghatak Kaal Sarp Dosh bring challenges in career, reputation, and domestic life.

11. Vishdhar Kaal Sarp Dosh

Vishdhar Kaal Sarp Dosh

Symptoms of Vishdhar Kaal Sarp Dosh

Vishdhar Kaal Sarp Dosh is takes place when Rahu is in the 11th house and Ketu is in the 5th house. Due to this yoga, there is a hindrance in study, knowledge acquisition, Vyasanga. Memory betrays. Even when there is a hope of benefit from the grandparents, there is a sudden loss. Clashes with uncles and cousins. Offspring are susceptible to disease. There is always disagreement in the family.

12. Sheshnag Kaal Sarp Dosh

Sheshnag Kaal Sarp Dosh

Symptoms of Sheshnag Kaal Sarp Dosh

Planetary position from 12th house to 6th house results in Sheshnag Kaal Sarp Dosh. Due to Sheshnag Kaal Sarp Dosh Yog one has to move away from birth place and motherland. You have to struggle all your life. Such a person gets fame only after her death. In life, however, she has more secret enemies. Desired work is never accomplished. Even if the work is done, it is too late. A person is always sad and suffering as a result of mental tension. Financial worries are a constant bother.

In above we have mentioned all the major types of Kaal Sarp Dosh and their effects or symptoms/ lakshan. If you are experiencing any of these problems or wish to determine the type of Kaal Sarp Dosh affecting you, you can reach out to Pandit Ravi Guruji, a renowned Trimbakeshwar pandit. He will provide you with suitable suggestions based on analyzing your Kundali and guiding you towards a better life.

Read more about Kaal Sarp Dosh Puja in Trimbakeshwar.

कालसर्प दोष के १२ मुख्य प्रकार तथा उनके लक्षण

Types of Kaal Sarp Dosh / कालसर्प दोष के प्रकार

अब जब आपको काल सर्प दोष क्या है, इसके बारे में पूरी जानकारी प्रदान कर दी गई है, तो आइए अब इसके विभिन्न प्रकारों और प्रत्येक के संभावित समाधानों/ उपाय के बारे में जानें।

प्राचीन विद्वानों ने काल सर्प दोष के 12 मुख्य प्रकारों का उल्लेख किया है। इनके नाम अनंत, कुलिक, वासुकी, शंखपाल, पद्म, महापद्म, तक्षक, कर्कोटक, शंखचूड़, घातक, विषधर और शेषनाग हैं। इन बारह प्रकार के काल सर्प दोष के विभिन्न फलों का निर्धारण राहु की स्थिति का अध्ययन करके ही किया जाता है।

काल सर्प दोष के हजारों रूप

वैसे तो शास्त्रों में मुख्य रूप से केवल बारह प्रकार बताए गए हैं, लेकिन यदि हम व्यावहारिक स्तर पर सभी परिणामों का अध्ययन करें, तो हजारों प्रकार के कालसर्प योग विभिन्न ग्रह स्थितियों (विशेष रूप से विभिन्न लग्न कुंडली में) में घटित हैं। उदाहरण के लिए मिथुन लग्न में राहु का प्रभाव सिंह राशि लग्न में राहु से भिन्न होता है। इस प्रकार से विचार करें तो १२ × १२ = १४४ प्रकार के काल सर्प योग हो सकते हैं।

विशेष बारीकियाँ

किसी भी प्रकार का काल सर्प योग राहु से प्रारंभ हो तो अधिक कष्टकारी होता है। पंचमस्थ राहु के साथ काल सर्प योग हो तो पुत्र प्राप्ति में बाधा उत्पन्न करता है। जब जन्म कुंडली के सभी ग्रह राहु-केतु के बीच कैद हो जाते हैं, तो यह ‘पूर्ण काल सर्प योग’ होता है। यदि कोई ग्रह राहु केतु की गिरफ्त से बाहर है, तो ‘आंशिक कालसर्प योग’ बनता है। आंशिक कालसर्प योग के अशुभ और कष्टदायक फल आधे हो जाते हैं। (परंतु टाला नहीं जा सकता) आज तक कम्प्यूटर की सहायता से लगभग बीस हजार जन्म कुण्डलियों का अध्ययन करने पर यह बात समझ में आई है।

विशिष्ट प्रकार का दोष जन्म कुंडली में राहु और केतु की स्थिति से निर्धारित होता है।

मुख्य 12 प्रकार के कालसर्प दोष

1. अनंत काल सर्प दोष

अनंत काल सर्प दोष
अनंत कालसर्प दोष के लक्षण:

यदि कोई ग्रह लग्न से सप्तम भाव में राहु-केतु (या केतु-राहु) में प्रवेश करता है, तो यह ‘अनंत कालसर्प दोष’ होता है। ऐसी जन्म कुंडली वाले व्यक्ति को जीवन में उन्नति के लिए कड़ा संघर्ष करना पड़ता है। इसका असर वैवाहिक जीवन पर भी पड़ता है और जीवन कठिन हो जाता है। ऐसे जातक का नुकसान उसके परिवार के सदस्यों द्वारा ही होता है। मानसिक प्रताड़ना हर समय होती है। एक के बाद एक कष्ट आते रहते हैं। ऐसा व्यक्ति यदि अनेक प्रकार के कार्य भी करे तो भी उसमें उसकी पूर्ति नहीं हो सकती। वे कार्य अंत तक पूरे नहीं होते और फल देते हैं। ऐसे व्यक्ति की किसी भी कार्य में स्थायी रुचि नहीं होती है साथ ही यह व्यक्तिगत संबंधों, स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों और साझेदारी या विवाह से संबंधित समस्याओं में परेशानी ला सकता है।

2. कुलिक कालसर्प दोष

Kulik Kaal Sarp Dosh / कुलिक कालसर्प दोष
कुलिक कालसर्प दोष के लक्षण:

जब कुंडली में राहु दूसरे भाव में और केतु आठवें भाव में होता है तो ग्रहों की स्थिति कुलिक काल सर्प दोष बनाती है। इस योग के कारण इस जातक के जीवन में धन को लेकर घोर संघर्ष होता है। लागत बहुत अधिक है। बार-बार असफलताएं और परेशानियां आती हैं। पैसा टिकता नहीं है। शरीर के स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव के योग हैं। यह योग अधिक कष्टदायक होता है। लगातार तनाव में रहने से व्यक्ति का स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है। धन प्राप्ति के प्रयास में सफलता नहीं मिल रही है। व्यक्ति भले ही कुलीन हो, उसे धन-दौलत के लिए संघर्ष करना पड़ता है। सामान्यतः कुलिक काल सर्प दोष के कारण वित्तीय चुनौतियां, भाषण संबंधी समस्याएं और विरासत में समस्याएं होती हैं।

3. वासुकी काल सर्प दोष

Vasuki Kaal Sarp Dosh / वासुकी काल सर्प दोष
वासुकी कालसर्प दोष के लक्षण:

तीसरे घर से नौवें घर तक ग्रहों की स्थिति वासुकी काल सर्प दोष बनाती है। यह परिवार और भाई-बहनों के साथ संघर्ष, दोस्तों के साथ विश्वासघात, संचार समस्याओं, नौकरी की समस्याओं और उच्च शिक्षा में चुनौतियों का कारण बन सकता है।
वासुकी काल सर्प दोष के कारण धन तो मिलता है लेकिन बदनामी भी होती है। निकट संबंधियों के कारण मानसिक तनाव का सामना करना पड़ता है। सफलता, पद और प्रतिष्ठा के लिए संघर्ष करना पड़ता है।

4. शंखपाल काल सर्प दोष

Shankhpal Kaal Sarp Dosh / शंखपाल काल सर्प दोष
शंखपाल कालसर्प दोष के लक्षण:

चतुर्थ भाव से दशम भाव में केतु और राहु के बीच फंसा राहु शंखपाल काल सर्प दोष बनाता है। यह स्थिति संपत्ति, घर और करियर में स्थिरता से जुड़ी मुश्किलें लेकर आती है।
शंखपाल काल सर्प दोष हमेशा शुरुआत में बाधा डालता है। पिता परेशानी पैदा करते हैं। पढ़ाई में दिक्कतें आती हैं। जिस पर सबसे ज्यादा भरोसा हो। वही व्यक्ति धोखा देता है। सिर हमेशा किसी न किसी समस्या से ग्रस्त रहता है। आप कितना भी उबरने की कोशिश कर लें, संघर्ष को टाला नहीं जा सकता।

5. पद्म काल सर्प दोष

Padma Kaal Sarp Dosh / पद्म काल सर्प दोष
पद्म कालसर्प दोष के लक्षण:

पंचम भाव से 11वें भाव में ग्रहों की स्थिति के कारण पद्मा नाम का कालसर्प दोष बनता है। ऐसे व्यक्ति की शिक्षा में बाधा आती है। पुत्र प्राप्ति में बाधा आती है। पुत्र प्राप्ति की चिंता है। मशहूर फिल्म अभिनेता दिलीप कुमार की भी कुंडली में यह योग है। ऐसे व्यक्ति के कई गुप्त शत्रु होते हैं। पारिवारिक जीवन तनावपूर्ण है। विश्वसनीय साथी नहीं मिल रहा है। जीवन एक निरंतर संघर्ष है। ऐसे व्यक्तियों के सभी कार्य कोई न कोई विवाद उत्पन्न करते हैं। इनशॉर्ट पद्म काल सर्प दोष रचनात्मकता, बच्चों के साथ संबंधों को प्रभावित कर सकता है और इच्छाओं की पूर्ति में बाधा उत्पन्न कर सकता है।

6. महापद्म काल सर्प दोष

Mahapadma Kaal Sarp Dosh/ महापद्म काल सर्प दोष
महापद्म कालसर्प दोष के लक्षण:

छठे भाव से अंतिम (12वें) भाव में ग्रहों की स्थिति के कारण महापद्म काल सर्प दोष बनता है। इस योग के प्रभाव से जातक को हमेशा स्वास्थ्य संबंधी परेशानी, शत्रुता और व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में बाधाएँ बनी रहती हैं। बहुत यात्रा और तीर्थ यात्रा करने के बाद भी सफलता नहीं मिलती है। इस व्यक्ति का अपना चरित्र संदिग्ध है। व्यक्ति के पास कम आत्मसम्मान और उदास मनोदशा है।
महापद्म काल सर्प दोष के कारण चाहे कितनी भी दवाई क्यों न दी जाए, रोग ठीक नहीं हो पाता है। गुप्त शत्रु हमेशा परेशानी देते हैं। काम में रुकावटें और लगातार संघर्ष जीवन को कठिन बना देता है।

7. तक्षक काल सर्प दोष

Takshak Kaal Sarp Dosh / तक्षक काल सर्प दोष
तक्षक काल सर्प दोष के लक्षण:

जब राहु सातवें भाव में और केतु पहले भाव में हो तो तक्षक काल सर्प दोष बनता है। यह रिश्तों, साझेदारी को प्रभावित करता है और विवाह में समस्याएं पैदा करता है। जीवनसाथी से अनबन झेलनी पड़ेगी। प्रेम संबंधों में असफलता। सिद्ध कार्य में विश्वासघात की आशंका है। मानसिक चिंता बनी रहती है। ऐसे व्यक्ति को अपने वैवाहिक साथी के साथ समझौता करने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए, ताकि उसे मन की शांति मिल सके।

8. कर्कोटक काल सर्प दोष

Karkotak Kaal Sarp Dosh / कर्कोटक काल सर्प दोष
कर्कोटक कालसर्प दोष के लक्षण:

आठवें स्थान (मकान) से धनस्थान अर्थात दूसरे भाव में ग्रहों की स्थिति “कार्कोटक काल सर्प दोष” बनाती है। कर्कोटक काल सर्प दोष योग के कारण अल्प जीवन और दुर्घटनाओं का खतरा होता है साथ ही यह वित्तीय परेशानी, स्वास्थ्य समस्याएं और परिवार और धन से संबंधित चुनौतियों को भी ला सकता है। शारीरिक स्वास्थ्य संबंधी चिंताएं उत्पन्न होती हैं। बार-बार आर्थिक हानि होना। उधार दिया हुआ पैसा डूब जाता है। अनेक शत्रु हैं। वाणी पर नियंत्रण नहीं रहता। मेहनत से सफलता नहीं मिलती है। पारिवारिक मामलों में असफलता मिलती है।

9. शंखचूड़ काल सर्प दोष

Shankhchud Kaal Sarp Dosh/ Shankachood kaal Sarp Dosh /  शंखचूड़ काल सर्प दोष
शंखचूड़ कालसर्प दोष के लक्षण:

9वें से तीसरे भाव में ग्रहों की स्थिति शंखचूड़ काल सर्प दोष बनाती है। इससे उन्नति में बाधा, नौकरी, शिक्षा में परेशानी, पिता या अधिकारी व्यक्तियों से मतभेद, व्यापार में हानि, मित्रों से विश्वासघात होता है। कोर्ट के काम के परिणामस्वरूप जुर्माना या सजा हो सकती है। साले द्वारा फर्जी लेनदेन किया जाता है। कई प्रकार के व्यापार करने से भी स्थिरता प्राप्त नहीं होती है। जैसे टूटे हुए पहाड़ में पानी नहीं होता, वैसे ही आप कितनी भी कोशिश कर लें, आप सफल नहीं होंगे।

10. घातक कालसर्प दोष

Ghatak Kaal Sarp Dosh / घातक कालसर्प दोष
घातक कालसर्प दोष के लक्षण:

दशम भाव से चतुर्थ भाव तक ग्रहों की स्थिति घातक काल सर्प दोष बनता है। इस योग के कारण व्यक्ति को व्यापार में घाटा, साझेदारी में गलतफहमी व क्रोध, सरकारी अधिकारियों से विवाद जैसी आपदाओं का सामना करना पड़ता है। परिवार में झगड़े होते रहते हैं। लगातार चिंता की स्थिति में रहने से पारिवारिक और पेशेवर जीवन उदासी और मानसिक तनाव से ग्रस्त हो जाता है।
संक्षेप में घातक कालसर्प दोष करियर, प्रतिष्ठा और घरेलू जीवन में चुनौतियां लाता है।

11. विषधर काल सर्प दोष

Vishdhar Kaal Sarp Dosh / विषधर काल सर्प दोष
विषधर कालसर्प दोष के लक्षण:

जब राहु 11वें भाव में और केतु 5वें भाव में हो तो विषधर काल सर्प दोष बनता है। इस योग के कारण अध्ययन, ज्ञानार्जन, व्यासंग में बाधा आती है। स्मृति धोखा देती है। दादा-दादी से लाभ की आशा होने पर भी अचानक हानि हो जाती है। चाचा-भतीजों से नोकझोंक हुई। संतान रोग के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं। परिवार में हमेशा संघर्ष होता रहता है।

12. शेषनाग काल सर्प दोष

Sheshnag Kaal Sarp Dosh / शेषनाग काल सर्प दोष
शेषनाग कालसर्प दोष के लक्षण:

बारहवें भाव से छठे भाव तक ग्रहों की स्थिति शेषनाग कालसर्प दोष का परिणाम है। शेषनाग काल सर्प दोष योग के कारण जन्म स्थान और मातृभूमि से दूर जाना पड़ता है। आपको जीवन भर संघर्ष करना पड़ता है। ऐसे जातक को प्रसिद्धि मरने के बाद ही प्राप्त होती है। हालाँकि, जीवन में उसके अधिक गुप्त शत्रु हैं। मनोवांछित कार्य कभी सिद्ध नहीं होता। काम हो भी जाए तो बहुत देर हो चुकी होती है। मानसिक तनाव के कारण व्यक्ति हमेशा दुखी और पीड़ित रहता है। आर्थिक चिंताएं लगातार परेशान करती हैं।

ऊपर हमने सभी प्रमुख प्रकार के काल सर्प दोष और उनके प्रभाव या लक्षणों का उल्लेख किया है। यदि आप इनमें से किसी भी समस्या का सामना कर रहे हैं या आपको प्रभावित करने वाले काल सर्प दोष के प्रकार का निर्धारण करना चाहते हैं, तो आप प्रसिद्ध त्र्यंबकेश्वर पंडित पंडित रवि गुरुजी से संपर्क कर सकते हैं। वह आपको आपकी कुंडली के विश्लेषण के आधार पर उपयुक्त सुझाव प्रदान करेंगे और आपको बेहतर जीवन की दिशा के लिए मार्गदर्शन करेंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top